‘समझदार को इशारा काफी’, तालियों की गड़गड़ाहट के बीच पीएम मोदी को भरोसा- हैट्रिक लगेगी

नई दिल्ली : देश में जल्द ही लोकसभा चुनाव होने हैं। हर कोई यही चर्चा कर रहा आखिर देश में अगली सरकार किसकी बनेगी। इस बीच प्रधानमंत्री ने दिल्ली में एक कार्यक्रम दौरान ऐसा कमेंट किया जिसे लेकर नई सियासी चर्चा शुरू हो गई। दरअसल, पीएम मोदी ने ‘ 2024’ में शिरकत के दौरान अपने तीसरे टर्म का जिक्र किया। बस प्रधानमंत्री के इतना कहते ही पूरा हॉल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। इस दौरान ‘मोदी-मोदी’ के नारे भी सुनाई दिए। जिसके बाद पीएम मोदी ने मुस्कुराते हुए बस इतना ही कहा- ‘चलिए समझदार को इशारा काफी है।’ पीएम मोदी ने क्या कहाजिस तरह से तालियों की गड़गड़ाहट के बीच पीएम मोदी ने ये बात कही उससे ये भरोसा नजर आ रहा कि हैटट्रिक लगेगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को दिल्ली में ‘भारत मोबिलिटी ग्लोबल एक्सपो 2024’ में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने कहा कि आज भारत की अर्थव्यवस्था का तेजी से विस्तार हो रहा है। हमारी सरकार के तीसरे कार्यकाल में भारत का दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनना तय है। अपने संबोधन के दौरान ही पीएम मोदी ने कहा, ‘जब मेरी पहली टर्म थी उस समय मैंने ग्लोबल लेवल की एक मोबिलिटी कॉन्फ्रेंस प्लान की थी। उस समय की चीजें अगर आप निकालकर देंखेंगे तो बैटरी पर हमारा फोकस क्यों होना चाहिए, इलेक्ट्रिक व्हीकल तरफ हमें कैसे जल्दी जाना चाहिए। इन सारे विषयों पर बहुत विस्तार से वो समिट हुआ था। ग्लोबल एक्सपर्ट्स आए थे।’जब तालियों के साथ लगे मोदी-मोदी के नारेपीएम मोदी ने आगे कहा कि ‘आज मेरी दूसरी टर्म में मैं देख रहा हूं कि खासी मात्रा में प्रगति हो रही है। मुझे विश्वास है कि तीसरी टर्म में…’ और इसके बाद पूरा हॉल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंजने लगा। दूसरी ओर प्रधानमंत्री भी हंसते हुए ये सब देख रहे थे। इस दौरान बीच-बीच में मोदी-मोदी की आवाज भी आ रही थी। इसी के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि ‘चलिए समझदार को इशारा काफी होता है और आप लोग तो मोबिलिटी की दुनिया से हैं तो ये इशारा देश में और तेजी से फैलेगा।’ पीएम मोदी ने किया ‘विकसित भारत’ का जिक्रयही नहीं भारत मोबिलिटी ग्लोबल एक्सपो 2024 में पीएम मोदी ने आगे ‘विकसित भारत’ का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि आज का भारत 2047 तक ‘विकसित भारत’ बनाने के लिए आगे बढ़ रहा है। इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए मोबिलिटी सेक्टर अहम भूमिका निभाने वाला है। मैंने लाल किले की प्राचीर से कहा था कि ‘यही समय, सही समय है’, ये शब्द मैंने देश के लोगों की क्षमताओं के कारण ही कहे थे। आज भारत की अर्थव्यवस्था तेजी से बढ़ रही है। हमारी सरकार के तीसरे कार्यकाल में देश मजबूती से दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने के लिए अग्रसर है।