पालने में सो रहा था 2 महीने का मासूम, उत्पाती बंदर ने छत से नीचे फेंक दिया, मौत से घर में कोहराम

बांदा: तिंदवारी थाना क्षेत्र के छापर गांव में इन दिनों बंदरों का आतंक है। मंगलवार की शाम उत्पाती बंदरों ने अपने घर की छत में सो रहे 2 माह के मासूम बच्चे को छत से नीचे फेंक दिया जिससे उसकी घटनास्थल पर मौत हो गई। बच्‍चे की मौत के बाद घरवालों में कोहराम मच गया। इस घटना से जहां ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है। वहीं, वन विभाग के अधिकारियों ने यह कहकर पल्ला झाड़ लिया कि अब बंदर वन्यजीव श्रेणी से बाहर हैं ।

ग्राम छापर निवासी विश्वेश्वर वर्मा का 2 वर्षीय पुत्र अभिषेक मंगलवार की शाम छत के खपरैल दार बरामदे के नीचे सो रहा था। तभी वहां चार-पांच बंदरों का झुंड आ गया। इस दौरान कामकाज में जुटे परिजनों की नजर बंदरों पर पड़ी तो उन्होंने बंदरों को भगाना शुरू किया। इसी बीच एक बंदर ने पालने में सो रहे बच्चे को उठा लिया और इसके बाद छत से नीचे फेंक दिया। यह देखते ही घर के लोगों में सनसनी फैल गई। बच्चे को उठाकर फौरन डॉक्टर के पास ले गए, डॉक्टर ने बच्चे को देखते ही मृत घोषित कर दिया। इस घटना से ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है। घटना के बाद ग्राम प्रधान ने इस मामले की जानकारी जरिए फोन एसडीएम सदर सुरभि शर्मा को दी और बंदरों को पकड़वाने का अनुरोध किया।

पिछले 6 महीने में एक दर्जन हमले कर चुके हैं बंदर
बताते चलें कि इस गांव में पिछले कई महीनों से बंदरों का आतंक व्याप्त है। इस सिलसिले में ग्रामीणों ने वन विभाग को अवगत भी कराया था लेकिन विभाग द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की गई। इससे पहले बंदरों को भगाते समय 2 माह पूर्व 65 वर्षीय तेजनिया गिरकर घायल हो गई थी। इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी। ग्रामीणों का कहना है कि पिछले 6 माह में गांव के एक दर्जन लोग बंदरों के हमले में घायल हो चुके हैं। इसके बाद भी विभाग द्वारा ध्यान नहीं दिया गया। छापर गांव के अलावा माटा, जसईपुर भिडौरा में भी बंदरों का आतंक व्याप्त है।

बंदरों को पकड़ने के लिए भेजी गई है व‍न विभाग की टीम
इधर इस बारे में प्रभावी वनाधिकारी संजय अग्रवाल ने बताया कि उन्हें घटना की जानकारी मिली है। बंदरों को पकड़ने के लिए वन विभाग की टीम भेजी गई है। उन्होंने यह भी बताया कि हाल ही में एक्ट में संशोधन कर बंदरों को वन्यजीव श्रेणी से बाहर कर दिया गया है। हालांकि मानवीय संवेदना के तहत विभाग द्वारा बंदरों को पकड़ा जाएगा।

(रिपोर्ट: अनिल सिंह)