9 बकरे हजम कर गया 12 फुट का अजगर, दहशत के बीच ऐसे पकड़ा गया

वह एक-एक करके 9 बकरों को हजम कर चुका था. ना सिर्फ एक गांव बल्कि उसके आस-पास भी जिसकी दशहत कायम थी, वो विशालकाय 12 फुट का अजगर आखिर पकड़ लिया गया है. महाराष्ट्र के चंद्रपुर जिले के ब्रह्मपुरी तालुका के उचली गांव में पिछले एक साल से इस अजगर की दहशत थी. गांव वालों को अक्सर यह अजगह दिख जाया करता था. लेकिन जब गांव के बड़े लोग घरों के अंदर सो रहे होते थे तब यह अजगर धीरे से दुबक कर आता था और किसी ना किसी बकरे को शिकार बनाता था. ऐसा करके इसने नौ बकरे हजम कर डाले.
अजगर की दहशत इतनी ज्यादा थी कि जहां वो दिखाई दे जाता था, गांव में उस तरफ कोई नहीं आता-जाता था.किसान उधर से गुजरने से घबराते थे और छोटे बच्चों को तो उसके आस-पास के इलाके में भी नहीं छोड़ा जाता था.
अजगर पकड़े जाने के बाद, गांव में हुआ जश्न- दहशत हुई खत्म
जब ढोंगे नाम के एक किसान का चौथा बकरा अजगर खा गया तो इसकी जानकारी अर्थ कंजर्वेशन ऑर्गनाइजेशन संस्था के सदस्यों को दी गई. सर्प विशेषज्ञ ललित उरकुडे अपने सहयोगियों- विवेक राखडे, चेतन राखडे और इशान वठे के साथ सूचना मिलते ही घटनास्थल पर पहुंचे. फिर थोड़ी मशक्कत के बाद इन्हें यह विशालकाय अजगर को पकड़ने में कामयाबी मिली. अजगर पकड़े जाने के बाद गांववालों ने जश्न मनाया और संस्था के सभी सदस्यों का आभार माना गया.
ऐसे पकड़ लिया गया अजगर, फिर छोड़ आया गया जंगल
ब्रह्मपुरी तालुका में 12 फुट लंबा अजगर मिलने की यह पहली घटना है. इसकी दहशत खत्म होने के बाद गांववाले काफी राहत महसूस कर रहे हैं. इसने एक-एक कर 9 बकरों को अपना शिकार बनाया था. एक किसान के ही चार बकरे निगल लिए गए तो इस गांव के किसानों की चिंता बढ़ गई. इसके बाद गांववालों ने पहले आपस में इस पर बातचीत की कि इस अजगर को पकड़ा कैसे जाए. तभी गांववालों में से ही किसी ने अर्थ कंजर्वेशन ऑर्गनाइजेशन और उससे जुड़े सर्व विशेषज्ञों के बारे सुन रखा था. उन्होंने ही बैठक मेें यह सलाह दी कि इस संस्था से जुड़े सर्प विशेषज्ञों की सहायता ली जाए. गांववालों ने इसके बाद संबंधित संस्था से संपर्क कर उन्हें बुलाया. संस्था के सदस्यों ने आकर अजगर को पकड़ा और इसे जंगलों में छोड़ आए.