बिहार: छपरा में जहरीली शराब पीने से 5 लोगों की मौत, 6 की हालत गंभीर

छपरा: बिहार में शराबबंदी के बावजूद घटिया किस्म की शराब का कारोबार तेजी से चल रहा है। जहरीली शराब के कारण आए दिन बिहार के किसी न किसी जिले में लोगों की मौत होना आम बात हो गई है। उसी कड़ी में बिहार के छपरा जिले के मशरक और इशुआपुर से दर्दनाक खबर सामने आई है, यहां जहरीली शराब पीने से 5 लोगों की मौत हो गई है। वहीं 6 लोग गंभीर रूप से बीमार हो गए हैं।

पुलिस ने मामले में कार्रवाई शुरू कर दी है। पीड़ित परिवार के लोगों से पूछताछ की जा रही है। साथ ही नकली शराब बनाने वालों की धरपकड़ भी शुरू कर दी गई है। उधर बिहार में जहरीली शराब के बढ़ते कारोबार को लेकर बिहार की सियासत भी गर्म है। गठबंधन के नेता जहरीली शराब की खरीद फरोख्त के लिए शराबबंदी को मुख्य कारण मानते हैं। हाल ही में बिहार के कुढ़नी में हुए उपचुनाव के दौरान भी इस मुद्दे को जोरशोर से उठाया गया था।

बिहार में जहरीली शराब पीने से कब-कब हुई मौत

बिहार में जहरीली शराब पीने से मौत अब एक आम हो गई है, उसके वावजूद इस दिशा में कोई सख्त कार्रवाई शासन की तरफ से नहीं की जा रही है। 5 अगस्त 2022 को बिहार के सारण जिले में जहरीली शराब से 9 लोगों की मौत हुई थी और 17 लोगों ने अपनी आंख की रोशनी को खो दी थी। वहीं 21 मार्च 2022 को बिहार के तीन जिलों में जहरीली शराब पीने से 37 लोगों की मौत हो गई थी। इसमें सबसे ज्यादा मौतें भागलपुर जिले में हुईं, जहां 22 लोगों की मौत हुई थी। इसके अलावा बांका जिले में 12 और मधेपुरा में 3 लोगों की जान चली गई। 5 नवंबर 2021 में मुजफ्फरपुर के बेतिया में 8 और गोपालगंज में 16 लोगों की मौत हो गई।