कैंची धाम मेला आज से, 2 दिन में आ सकते हैं 5 लाख लोग, नीम करौली बाबा के आश्रम जाने से पहले ट्रैफिक प्लान जानिए

नैनीताल: उत्तराखंड में शनिवार को कैंची धाम के 60वें स्थापना दिवस पर होने वाले मेले में उमड़ने वाली भीड़ को देखते हुए प्रशासन ने विशेष यातायात प्लान लागू कर दिया है। नैनीताल जिला प्रशासन का अनुमान है कि 2 दिन के भीतर इस दौरान कैंची धाम में पांच लाख लोग आएंगे। नीब करौरी बाबा के आश्रम जाने वालों के लिए तैयारियां जोरों पर हैं। हल्द्वानी से पहाड़ और पहाड़ से हल्द्वानी जाने वाले वाहनों को क्वारब से रामगढ़ और भीमताल मार्गों से भेजा जा रहा है। भवाली और भीमताल में पार्किंग और शटल सेवा को भी इस योजना में शामिल किया गया है। भंडारे पर लगने वाले मेले के लिए यातायात प्लान के साथ ही 14 पार्किंग स्थलों का चयन किया गया है। यातायात व्यवस्था को सुचारू बनाने को कुमाऊं के अलावा 1200 से ज्यादा पुलिसकर्मियों और अधिकारियों को ड्यूटी में लगाया है। कुमाऊं मंडल के DIG योगेंद्र सिंह रावत ने बताया कि भारी वाहनों का आवागमन शुक्रवार से ही बंद कर दिया गया है। अल्मोड़ा, पिथौरागढ़ और बागेश्वर की ओर आने-जाने वाले वाहन रामगढ़ मार्ग का इस्तेमाल कर रहे हैं। कैंची धाम जाने वाले वाहनों के लिए पार्किंग की व्यवस्था सेनेटोरियम से रातीघाट, मस्जिद तिराहा से नैनी बैंड, रामलीला मैदान भवाली और भीमताल के विकास भवन मैदान और मत्स्य विभाग के पास की गई है। कई रास्ते बदले गए अल्मोड़ा, बेतालघाट, रानीखेत, खैरना से हल्द्वानी जाने वाले वाहनों को क्वारब से शीतला, धानाचूली खुटानी होते हुए भीमताल की तरफ भेजा जा रहा है। रामनगर कालाढूंगी की तरफ से कैंचीधाम जाने वाले वाहन रुसी ज्योलीकोट होते हुए मस्जिद तिराहा भवाली तक भेजे जा रहे हैं। भवाली से दिल्ली, हरियाणा, यूपी, काशीपुर, बाजपुर जाने वाले वाहन वाया ज्योलीकोट रुसी से होते हुए कालाढूंगी मार्ग से भेजे जा रहे हैं। नैनीताल से दिल्ली, हरियाणा, यूपी और अन्य मैदानी क्षेत्र को जाने वाले पर्यटक कालाढूंगी मार्ग से भेजे जा रहे हैं। कालाढूंगी मार्ग पर नारायण नगर से आगे वाहनों को प्रवेश नहीं दिया जा रहा है।