122 दिन की प्लानिंग, 11 करोड़ का खर्च और लूटने थे 2 खरब, लेकिन पुलिस के ‘ऑपरेशन P’ ने बिगाड़ा खेल!

Bank : पैसे कमाने के लिए कुछ लोग मेहनत करते हैं और कुछ चोरी, लेकिन क्या आप सोच सकते हैं कि कोई चोरी के लिए भी 11 करोड़ रुपये खर्च कर सकता है। को अंजाम देने के लिए हाइप्रोफाइल चोरों ने किए थे 11 करोड़ रुपये खर्च। चोरों का मकसद था 317 मिलियन डॉलर बैंक से निकालना। ये इतिहास की सबसे बड़ी रॉबरी होने वाली थी जिससे शायद एक देश की पूरी अर्थव्यवस्था तक चरमरा सकती थी। ये इतना बड़ा अमाउंट था कि कई छोटे देशों की इकॉनमी भी इतनी नहीं होती।दुनिया की सबसे बड़ी रॉबरी का प्लान कैसे हुआ फेल?ये बैंक लूट की कहानी ब्राजील में साल 2017 की है। 20 चोरों के एक एक्सपर्ट गैंग ने इस लूट की प्लानिंग की थी। हर चोर ने इस लूट के लिए 53 लाख की बड़ी रकम जमा की। अब करीब 11 करोड़ इनके पास इकट्ठा हो चुके थे। इनका टारगेट था ब्राजील (Brazil) के सबसे बड़े शहर साउ पाउल के सरकारी बैंक, बैंको दो ब्राजील (Banco do Brasil) एक बैंक की बड़ी शाखा को निशाना बनाना। गैंग ने 4 महीने में अपनी लूट को अंजाम देने का टारगेट सेट किया। ब्राजील के बैंक से चोरी होने थे 2 खरब रुपये2017 जून से इन लोगों रॉबर्स ने इस काम को शुरू किया। सबसे पहले इन्होंने बैंक 500 मीटर की दूरी पर एक घर को किराए पर लिया। ये इस घर को अपने अड्डे के रूप में इस्तेमाल कर रहे थे। बैंक मेन शहर में था। इन लुटेरों उस घर के अंदर से एक सुरंग तैयार की। ये सुरंग घर के अंदर से बैंक के सेफ रूम तक जाती थी। ये सरकारी बैंक था। करीब साढे तीन महीने के अंदर ये सुरंग बनकर तैयार हो गई। सुरंग के अंदर लड़की और लोहे का इस्तेमाल किया गया ताकि ये गिरे नहीं। इसके अलावा सुरंग में वैंटिलेशन के लिए जगह-जगह पर छोटे गड्डे भी बनाए गए ताकि किसी का दम न घुटे। चमचमाती सुरंग के रास्ते गायब होने का था प्लॉनये सुरंग 500 मीटर लंबी थी। पूरी टनल (Tunnel) के अंदर लाइट फिट गई थी। सुरंग में इतना स्पेस कि आसानी दो तीन लोग एक साथ आगे बढ़ सकते थे। किराए पर लिए गए इसी घर में इन्होंने अपने हथियार रखे थे। घर के अंदर इन्होंने 7 कारें भी पार्क की थी जो सारी की सारी शहरों से ही चुराई गईं थीं। इनका प्लान था बैंक से पैसे निकालकर इन कारों में रखना और शनिवार के दिन शहर से फरार हो जाना। ब्राजील पुलिस ने शुरू किया ऑपरेशन Pएक तरफ इनका प्लॉन चल रहा था वही दूसरी तरफ पुलिस को उनके खुफिया गुप्तचरों से इस बैंक लूट की खबर लग चुकी थी। पुलिस ने भी एक टीम तैयार की थी। पुलिस का ऑपरेशन P शुरू हो चुका था। यानि पाउल शहर की चोरी को बचाने का। 3 अक्टूबर यानी सोमवार के दिन पुलिस ने रात में बैंक के करीब इस घर में अपनी पूरी टीम के साथ रेड की। घर के अंदर 16 लुटेरे मौजूद थे। उनके पास सारे हथियार थे। फायरिंग हुई, लेकिन पुलिस को पहले से ही इस बात के लिए तैयार थी। 16 बैंक रॉबर्स को सुरंग से गिरफ्तार किया गयापुलिस ने इन 16 लुटेरों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस की टीम जब अंदर पहुंची तो देखकर हैरान रह गई। घर अंदर सुरंग को देखकर पुलिसवाले भी हैरान रह गए। ये सुरंग पूरी तरह से चमचमा रही थी। घर के अंदर खाने पीने का पूरा सामान था। खुदाई का सामान भी वहीं रखा गया था। पूछताछ में ही ये बात साफ हुई कि चोरों ने 4 महीने पहले से प्लानिंग शुरू की थी। खतरनाक क्रिमिनल्स ने रची थी बैंक लूट की प्लानिंगइन बीस चोरों में से कुछ बेहद खतरनाक क्रिमिनल थे। इनपर कई हत्याओं के आरोप भी लग चुके थे, जबकि दो चोर ऐसे थे जिन्होंने पहले भी एक बैंक लूटा था। इन सबकी उम्र 35 साल से ज्यादा था। इस केस में एक महिला भी शामिल थी। ये वो महिला था जिसका घर इन चोरों ने किराए पर लिया था। 16 लुटेरे तो तभी गिरफ्तार हो गए थे, बाकि चारों की पुलिस ने तलाश शुरू कर दी थी। पाउल शहर में हो रही ये चोरी अगर हो गई होती तो ये इतिहास में दर्ज अब तक की सबसे बड़ी रॉबरी होती, लेकिन पुलिस की समझदारी और उनके ऑपरेशन P बड़ा क्राइम होने से रोक दिया।